ताजा खबरेदुनियापॉलिटिक्स

Farmers Protest: जल्द खुलेगा गाजियाबाद-दिल्ली रूट

Farmers Protest: जल्द खुलेगा गाजियाबाद-दिल्ली रूट

Farmers Protest: दिवाली से पहले लोगों को बड़ी राहत मिल सकती है. टिकरी के बाद अब गाजीपुर बॉर्डर से बैरिकेड हटाने का काम शुरू हो गया है. बैरिकेड हटने के बाद गाजियाबाद से दिल्ली आने वाला रास्ता खुल सकता है.

कृषि कानूनों के विरोध में जारी प्रदर्शन के चलते महीनों से बंद गाजीपुर बॉर्डर से बैरिकेड हटाने का काम शुरू हो गया है.

जिसके बाद गाजियाबाद से दिल्ली आने वाला रास्ता खुल सकता है.

इससे पहले गुरुवार रात टिकरी बॉर्डर से बैरिकेडिंग हटानी शुरू की गई थी.

गाजीपुर बॉर्डर से पुलिस ने हटाए बैरिकेड : Farmers Protest

दिवाली से पहले लोगों को बड़ी राहत मिल सकती है. टिकरी के बाद अब गाजीपुर बॉर्डर से बैरिकेड हटाने का काम शुरू हो गया है.

बैरिकेड हटने के बाद गाजियाबाद से दिल्ली आने वाला रास्ता खुल सकता है.

पिछले कई महीनों से किसान यहां धरने पर बैठे हैं. गाजीपुर बॉर्डर पर पुलिस ने सबसे पहले कंटीले तार हटाने शुरू किए हैं.

एक पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘सरकार की तरफ से आदेश है इसलिए हम बैरिकेडिंग हटाकर रास्ता खोल रहे हैं.’

पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना ने कहा कि यह बैरिकेड नोएडा में लॉ एंड ऑर्डर की सिचुएशन को देखते हुए लगाए गए थे, अब किसानों से बातचीत की जा रही है और जल्द ही उम्मीद की जाती है कि यह रास्ता आम जनता के लिए खोल दिया जाएगा.

पुलिस अधिकारियों और मजदूरों द्वारा गाजीपुर में एनएच9 पर लगे लोहे की कीलों को हटाना शुरू कर दिया है।

यहां सैकड़ों विरोध प्रदर्शन, मुख्य रूप से भारतीय किसान संघ (बीकेयू) से संबंधित हैं, जिन्होंने नवंबर 2020 से सड़क पर कब्जा कर रखा है। 

बता दें कि इससे पहले गुरुवार रात को टिकरी बॉर्डर से बैरिकेडिंग हटानी शुरू की गई थी।

गौरतलब है की केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली के टिकरी बॉर्डर (दिल्ली -हरियाणा) और गाजीपुर बॉर्डर (दिल्ली-यूपी) पर लगभग एक साल से किसान धरने पर बैठे हुए हैं।

इससे यहां पर दिल्ली से बाहर जाने वाले रास्ते बाधित हो रहे हैं।

 पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी के बाद किसानों ने गाजीपुर बॉर्डर पर दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे की एक लेन खोल दी थी।  

सुप्रीम कोर्ट ने जताई थी नाराजगी


दरअसल इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है.

कोर्ट ने सुनवाई के दौरान लंबे समय से रास्ता बंद होने पर नाराजगी जताई.

तब किसान संगठनों की ओर से कहा गया कि उनकी ओर से रास्ता बंद नहीं किया गया है.

किसान संगठनों का कहना था कि पुलिस की ओर से रास्ते बंद किए गए हैं.

राकेश टिकैत ने भी पुलिस पर रास्ता बंद करने के आरोप लगाए थे.

टिकैत के उसी आरोप के बाद अब पुलिस ने पहले टिकरी और अब गाजीपुर से बैरिकेड हटाने शुरू किए हैं.

Share With Your Friends If you Loved it!